Latest 433+ Kismat Shayari In Hindi | किस्मत पर शायरी

कुछ तेरी फ़ितरत में नहीं थी !!
वफ़ादारी कुछ मेरी किस्मत में बेवफ़ाई थी !!
वक़्त को क्या दोश दूँ वक़्त ने !!
तो बस मुहोब्बत आजमाई थी !!


acchi kismat,
kismat in hindi,
kismat walo ko milta hai pyar,
wah kya baat hai meme,
bad kismat quotes in english,
dekho na ye kismat ki majburi lyrics,
chid jana in english,
dil ki halat kisko bataye,
dil ki halat,
ek baar mila de,
yunhi kat jaayega safar,
kya mohabbat hai kya nazara hai,
bago ke har phool ko apna,
rona quotes,
mere dil ne jo chaha mil gaya,
sapne mein khud ko rote hue dekhna,
mohabbat ko hum chhod de,
ek baat batao batao

छत कहाँ थी नसीब में !!
फुटपाथ को ही जागीर समझे !!
छालों से कटी हथेली हम !!
किस्मत की लकीर समझे !!

बड़ी गहराई से चाहा है तुझे !!
बड़ी दुआओं से पाया है तुझे !!
तुझे भुलाने की सोच भी तो कैसे !!
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे !!

जिस दिन अपनी किस्मत !!
का सिक्का उछलेगा !!
उस दिन हेड भी !!
अपना और टेल भी अपना !!

लेके अपनी अपनी !!
किस्मत आए थे गुलशन में गुल !!
कुछ बहारों मे खिले !!
और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए !!

लेके अपनी अपनी क़िस्मत !!
आए थे गुलशन में गुल !!
कुछ बहारों में खिले !!
कुछ ख़िज़ाँ में खो गए !!

जिन्दगी में चुनौतियाँ !!
हर किसी के हिस्से में नहीं आती है !!
क्योंकि किस्मत भी !!
किस्मत वालों को ही आजमाती है !!

यूँ ही नहीं होती हाथ की !!
लकीरों के आगे उंगलियाँ !!
खुदा ने भी किस्मत से !!
पहले मेहनत लिखी है !!

हाथों की लकीर, किस्मत और नसीब !!
जवानी में ऐसी बातें लगती है अजीब !!
कर्म करके तू लिख दे अपना नसीब !!
दुनिया भी कहे इंसान था वो अजीब !!

प्यार की कली सबके लिए खिलती नहीं !!
चाहने पर हर एक चीज मिलती नहीं !!
सच्चा प्यार किस्मत से ही मिलता है !!
और हर किसी को ऐसी तकदीर मिलती नहीं !!

बड़ी गहराई से चाहा है तुझे !!
बड़ी दुआओं से पाया है तुझे !!
तुझे भुलाने की सोचूँ भी तो कैसे !!
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे !!

किस्मत पर शायरी

कितने सच कितने अफ़साने !!
कैसी ये रेखाओं की बस्ती है !!
वही मुकम्मल है ताने बाने !!
जो ये किस्मत बुना करती है !!

मोहब्बत की आजमाइश दे दे !!
कर थक गया हू ऐ खुदा !!
किस्मत मे कोई ऐसा लिख दे !!
जो मौत तक वफा करे !!

किसी को प्यार करना !!
और उसी के प्यार को पाना !!
ये किसी किस्मत वाले कि !!
किस्मत में ही होता है !!

मेरे पास समय नहीं है उन लोगो के !!
लिए, जो मुझसे नफरत करते हैं !!
मै तो व्यस्त हूँ उन लोगो के साथ !!
जो मुझे प्यार करते हैं !!

इंसान कितना भी व्यस्त क्यों न हो !!
अगर वो सच में आपकी इज्जत करता !!
है तो, वह हमेशा आप के लिए वक्त !!
जरूर निकालेगा !!

मुक़द्दर की लिखावट का !!
एक ऐसा भी काएदा हो !!
देर से किस्मत खुलने वालो !!
का दुगुना फायेदा हो !!

किस्मतवालों को ही !!
मिलती है पनाह मेरे दिल में !!
यूं हर शख़्स को तो !!
जन्नत का पता नहीं मिलता !!

लेके अपनी-अपनी क़िस्मत !!
आए थे गुलशन में गुल !!
कुछ बहारों में खिले !!
कुछ ख़िज़ाँ में खो गए !!

क्या खूब मैनें किस्मत पाई है !!
खुदा ने कहा हंसकर !!
संभाल कर रख पगले !!
ये मेरी पसंद है जो तेरे !!
हिस्से में आई है !!

‘मेरी चाहत को मेरे हालात !!
के तराजू में कभी मत तोलना !!
मेने वो ज़ख्म भी खाए है !!
जो मेरी किस्मत में नहीं थे !!

तक़दीर लिखने वाले एक !!
एहसान करदे !!
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और !!
मुस्कान लिख दे !!
न मिले कभी दर्द उनको !!
तू चाहे तो उसकी किस्मत मैं !!
मेरी जान लिख दे !!

इसे भी पढ़े:- Killer Attitude Status in Hindi with Images | किलर एटीट्यूड स्टेटस हिंदी में

Kismat Shayari In Hindi

कभी किस्मत, कभी वक़्त पर इल्ज़ाम !!
कभी गलती सितारों की तो कभी दूसरों का नाम !!
कितने पर्दे हाज़िर हैं यहां !!
ख़ुद को छुपाने के लिए !!

क्यूं हथेली की लकीरों से हैं !!
आगे उंगलियां !!
रब ने भी किस्मत से आगे !!
मेहनत रखी !!

दिल टुटा इस कदर की !!
धड़कना भूल गया !!
किस्मत अच्छी थी जो !!
आपने आकर मेरे दिल को थाम लिया !!

कितने सच कितने अफ़साने !!
कैसी ये रेखाओं की बस्ती है !!
वही मुकम्मल है ताने बाने !!
जो ये किस्मत बुना करती है !!

चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली !!
कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली !!
उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे !!
शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली !!

किस्मत कि लकीरों में !!
तुम लिखे हो या नही पता नहीं !!
पर हाथों की लकीरों पे !!
तुम्हें हर रोज लिखता हूँ !!

लिखा है मेरी तक़दीर में तेरा नाम !!
दुनिया से क्या डरना !!
चाहे लाख कोशिश कर ले जमाना !!
मुमकिन नही हमको तुम से जुदा कर पाना !!

सच देखना भी हर !!
किसी के वश में नहीं होता !!
इंसान भी बेबस है !!
अपनी किस्मत के आगे !!

मोहब्बत की आजमाइश दे दे !!
कर थक गया हू ऐ खुदा !!
किस्मत मे कोई ऐसा लिख दे !!
जो मौत तक वफा करे !!

हाथों की लकीर, किस्मत और नसीब !!
जवानी में ऐसी बातें लगती है अजीब !!
कर्म करके तू लिख दे अपना नसीब !!
दुनिया भी कहे इंसान था वो अजीब !!

जिंदगी में चुनौतियाँ !!
हर किसी के हिस्से में नहीं आती है !!
क्योंकि किस्मत भी !!
किस्मत वालों को ही आजमाती है !!

लेके अपनी-अपनी किस्मत !!
आए थे गुलशन में गुल !!
कुछ बहारों में खिले !!
कुछ ख़िज़ाँ में खो गए !!

इसे भी पढ़े:- Dushman Shayari in Hindi | दुश्मनी स्टेटस हिंदी

Kismat Shayari

तुम मेरा सोया हुआ !!
किस्मत फिर से जगा दो !!
एक बार ही सही आकर !!
मुझे गले से लगा लो !!

किस्मत बदलने का सबसे !!
आसान तरीका मेहनत !!
किस्मत में जो नहीं लिखा है !!
उसे पाने की जिद रखो जिंदगी में !!

एक पल के लिए मान लेते हैं की !!
किस्मत में लिखे फैसले,बदला नहीं करते !!
लेकिन आप फैसले तो लीजिये क्या पता !!
किस्मत ही बदल जाए !!

यूँ ही नहीं होती हाथ की !!
लकीरों के आगे उंगलियाँ !!
खुदा ने भी किस्मत से !!
पहले मेहनत लिखी है !!

इतना वक्त कहाँ है अपनी किस्मत !!
को देखूं, बस अपनी माँ कि मुस्कराहट !!
देखकर समझ जाता हूँ !!
अपनी किस्मत अच्छी हैं !!

एक कसक दिल में दबी रह गई !!
जिंदगी में उनकी कमी रह गई !!
इतनी उल्फत के बाद भी वह मुझे ना मिली !!
शायद मेरी किस्मत में ही कुछ कमी रह गई !!

किस्मत कि लकीरों में !!
तुम लिखे हो या नही पता नहीं !!
पर हाथों की लकीरों पे !!
तुम्हें हर रोज लिखता हूँ !!

कोई छोड़ गया तुम्हे !!
तो क्या किस्मत ख़राब हुई तुम्हारी !!
चल छोड़ दे ऐसी बेकार की बातें !!
छोड़ दे ये दिल की बेकार बीमारी !!

आज समझ में आया मुझे !!
कि प्यार किसी के साथ भी हो जाये !!
वो आखरी तक टिकने का कोई भरोसा नहीं !!
किस्मत होना भी जरुरी है !!
प्यार का सफल होने के लिए !!

ना कसूर इन लहरों का था !!
ना कसूर उन तूफानों का था !!
हम बैठ ही लिये थे उस कश्ती में !!
किस्मत में जिसके डूबना था !!

बहते अश्को की जुबां नहीं होती !!
कभी लब्ज़ो में मोहब्बत बया नहीं होती !!
मिले जो प्यार तो कदर करना !!
क्यों की किस्मत हर किसी पे महेरबान नहीं होती !!

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो !!
जरुरी तो नहीं हम जिसके हैं वो हमारा हो !!
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती है !!
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो !!

किस्मत को बेकार बोलने वालों !!
कभी किसी गरीब के पास !!
बैठकर पूछना जिंदगी क्या है !!

जिसकी किस्मत में लिखा हो रोना !!
वो मुस्कुरा भी दे तो आंसू !!
निकल जाते हैं !!

खुद के लिए गालिया आ रही है !!
मेरी जुबां पर, क़िस्मत ने ला !!
कर छोड़ा है कुछ ऐसे मक़ाम पर !!

इंसान की किस्मत कितनी भी अच्छी !!
क्यों ना हो, उसकी कुछ ख़्वाहिशे !!
अधुरी रह ही जाती है !!

कभी किस्मत, कभी वक़्त पर इल्ज़ाम !!
कभी गलती सितारों की तो कभी दूसरों का नाम !!
कितने पर्दे हाज़िर हैं यहां, ख़ुद को छुपाने के लिए !!

जब इंसान की क़िस्मत चलती है !!
तो हर बाजार में सबसे ऊंची !!
उसकी क़ीमत लगती है !!

खुद में ही उलझी हुई है जो !!
मुझे क्या सुलझाएगी, भला हाथों की !!
चंद लकीरें भी क्या क़िस्मत बताएगी !!

जो मुझे पसंद नहीं करते मुझे !!
आदत भी उसकी पड़ी है !!
ऐ क़िस्मत तू कितनी बुरी है !!

खुश नसीब वो नहीं जिन्का !!
नसीब अच्छा है !!
खुश नसीब वो है !!
जो अपने नसीब पर खुश है !!

एक बात तो पक्की है !!
जिनके दिल बहोत अच्छे होते हैं !!
अक्सर किस्मत उनकी ही !!
बहुत खराब होती है !!

मैंने छोड़ दिया है !!
किस्मत पर यकीन करना !!
अगर लोग बदल सकते है !!
तो किस्मत क्या चीज है !!

कुछ लोगों को मिल जाता है सबकुछ !!
कुछ बोलने से ही पहले !!
बिन बोले कुछ मिल जाए हमे भी !!
ऐसा किस्मत हमारा कहा !!

दिल अमीर था मगर मुकद्दर गरीब था !!
मिलकर बिछड़ना तो हमारा नसीब था !!
हम चाह कर भी कुछ कर ना सके !!
घर जलता रहा और समंदर करीब था !!

इसे भी पढ़े:- Khafa Shayari in Hindi | खफा शायरी इन हिंदी

Acchi kismat

क़िस्मत वालों को ही मिलती !!
पनाह मेरे दिल में !!
यूं तो हर शख़्स को !!
जन्नत का पता नहीं मिलता !!

सच देखना भी हर !!
किसी के वश में नहीं होता !!
इंसान भी बेबस है !!
अपनी किस्मत के आगे !!

मेरा कसूर नहीं जे मेरी किस्मत का कसूर है !!
जिसे भी अपना बनाने की कोशिश करता हूँ !!
वो ही दूर हो जाता है !!

जैसे बिछड़ने की जल्दबाजी हो !!
मिलकर भी ऐसे बिछड़ना हुआ !!
जैसे कायनातए किस्मत की जालसाजी हो !!

जब भी खुदा दुनियां की !!
क़िस्मत में चमत्कार लिखता है !!
मेरे नसीब में थोड़ा और इंतज़ार लिखता है !!

किस्मत भी उनका साथ देती है !!
जिनमें कुछ कर गुजरने !!
की हिम्मत होती है !!

चल आ तेरे पैरों पर मरहम लगा दू ए मुक़द्दर !!
कुछ चोटें तुझे भी आयी होंगी !!
मेरे सपनों को ठोकर मारकर !!

अगर इश्क़ है तो फिक्र भी बेहद होगी !!
उभर गए तो किस्मत !!
डूब गए तो चाहत होगी !!

ज़माने से ना डर जरा किस्मत पे भरोसा कर !!
जब तक़दीर लिखने वाले ने लिखा है साथ !!
तो फिर किस बात का है दर !!

तकदीर त छे मगर किस्मत नि खुलती !!
ताजमहल बनाना चाहूँ !!
मगर ष्मुमताज नि मरती !!

अब किस्मत पर कैसा भरोसा जनाब !!
जब जान से प्यारे लोग बदल गए !!
तो किस्मत भी एक दिन बदल जाएगी !!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद लड़ूंगा !!
चाहें वो मिले ना मिले !!
मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जियूंगा !!

मंजूर है मुझे हर शर्त वो तेरी !!
मैं किस्मत में नहीं !!
खुद पर यकीं रखती हूं !!

किस्मत की बात है !!
कल तक मैं उसकी ज़िन्दगी था !!
आज ज़िन्दगी में कहीं भी नही हूँ !!

जिंदगी और किस्मत से ज्यादा सवाल !!
करना फिजूल है !!
भला सवाल किसे पसंद होते है !!

किस्मत की कश्ती का !!
माँझी क्यों सो जाता है !!
चाँद ढूँढते ढूँढते तारों में खो जाता है !!

वक्त और किस्मत पर कभी घमंड ना करे !!
सुबह उनकी भी होती है !!
जिन्हें कोई याद नही करता !!

वक्त सिखा देता है इंसान को फ़लसफ़ा !!
जिंदगी का,फिर तो किस्मत क्या !!
लकीर क्या और तक़दीर क्या !!

हर कागज़ की किस्मत नहीं होती !!
किताब हो जाना, कुछ कश्ती बनकर !!
बारिशों में तैर जाते हैं !!

किस्मत और मेहनत में बस इतना !!
सा फ़र्क़ है, की किस्मत कभी कभी !!
साथ देगी और मेहनत हमेशा साथ देगी !!

Kismat in hindi

मुझे हाथ की रेखाओं पर इसीलिए !!
विश्वास नहीं है, कैद ये मेरी मुठ्ठी में है !!
क्या खोलेगी किस्मत मेरी !!

हैरान हो जाएंगे देखकर दुनिया वाले !!
मेरी बरक़त को, कुछ इस कदर बदल देंगे !!
हम अपनी किस्मत को !!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद लड़ूंगा !!
चाहें वो मिले ना मिले !!
मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जीऊंगा !!

मुझ में और किस्मत में हर बार !!
बस यही जंग रही, मैं उसके फैसलें से तंग !!
और वो मेरे हैसले से दंग रही !!

अगर इश्क़ है तो फिक्र भी बेहद होगी !!
उभर गए तो किस्मत !!
डूब गए तो चाहत होगी !!

मेरे किस्मत में नहीं !!
किस्मत के आगे झुकूँगा नहीं !!
थका ज़रूर हूँ, लेकिन रुकूँगा नहीं !!

एक सच्चे इंसान की दुआ !!
वक्त के साथ-साथ !!
किस्मत भी बदल देती है !!

किस्मत और हालात दोनों जब साथ ना दे तो !!
तब उनकी भी सुननी पड़ती है !!
जिनकी कोई औकात नही होती !!

ज़िन्दगी है कट जाएगी !!
किस्मत है !!
किसी दिन पलट जाएगी !!

बात मुकद्दर पे आ के रुकी है !!
वरना कोई कसर तो न छोड़ी थी !!
तुझे चाहने में !!

किस्मत पर रोना मैंने छोड़ दिया !!
अपनी उम्मीदों को !!
मैंने हौसलों से जोड़ दिया !!

जब भी रब दुनिया की !!
किस्मत में चमत्कार लिखता है !!
मेरे नसीब में थोड़ा और इंतज़ार लिखता है !!

तुम मिले तो यूँ लगा, हर दुआ कबूल !!
हो गयी, कांच सी टूटी क़िस्मत मेरी !!
हीरों का नूर हो गयी !!

दिल टुटा इस कदर की धड़कना !!
भूल गया किस्मत अच्छी थी जो आपने !!
आकर मेरे दिल को थाम लिया !!

किसी कशमकश में रहा होगा खुदा भी !!
जो उसने मुझे तो तेरी किस्मत में लिखा !!
पर तुझे मेरी किस्मत में नहीं लिखा !!

किस्मत बुरी या मैं बुरा,इसका फैसला !!
न हुआ,मैं तो सबका हो गया,मगर कोई !!
मेरा न हुआ !!

किस्मत को बेकार बोलने वालों !!
कभी किसी गरीब के पास !!
बैठकर पूछना जिंदगी क्या है !!

लेके अपनी अपनी क़िस्मत, आए थे !!
गुलशन में गुल, कुछ बहारों में खिले !!
कुछ ख़िज़ाँ में खो गए !!

तक़दीर ने क्या खूब खेल खेला है !!
मेरे दिल पे तेरा नाम और जिंदगी !!
किसी और के नाम लिखा है !!

तलब ऐसी है कि साँसों में बसा !!
लूँ तुम्हें,और किस्मत ऐसी है कि !!
देखने को मोहताज हूँ तुम्हें !!

हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर !!
मिला करो,भटके मुसाफिर को चांदनी !!
रात बनकर मिला करो !!

एक बात तो पक्की है जिनके दिल बहुत !!
अच्छे होते हैं अक्सर किस्मत उनकी ही !!
बहुत खराब होती है !!

हमारी हैसियत का अंदाज़ा तुम ये जान !!
के लगा लो, हम कभी उनके नहीं होते !!
जो हर किसी के हो गए !!

इसे भी पढ़े:- Latest Broken Heart shayari In Hindi | टूटे दिल की शायरी

Kismat walo ko milta hai pyar

व्यस्त रहना तो बस एक बहाना है साहब !!
सच तो ये है की आज कल बेवजह किसी !!
से कोई मतलब नहीं रखता !!

मेरे साथ बैठ कर वक़्त भी रोया !!
एक दिन बोला बन्दा तू ठीक है मैं !!
ही ख़राब चल रहा हूँ !!

मेरी क़िस्मत की लड़ाई में खुद !!
लड़ूंगा, चाहें वो मिले ना मिले !!
मेरी ज़िन्दगी है मैं खुद जियूंगा !!

किस्मत की लकीरों ने छोड़ा है !!
ऐसे मंज़र पर, की ना दुआ काम !!
आ रही है ना दवा काम आ रही है !!

जो क़िस्मत में होगा वो ख़ुद चलकर !!
आएगा,जो नहीं होगा वो पास आकर !!
भी दूर चला जाएगा !!

अब किस्मत पर कैसा भरोसा जनाब !!
जब जान से प्यारे लोग बदल गए !!
तो किस्मत भी एक दिन बदल जाएगी !!

जिनका मिलना किस्मत में नही !!
होता, उनसे मोहब्बत कसम से !!
कमाल की होती है !!

किसी को प्यार करना और उसी !!
के प्यार को पाना,ये किसी किस्मत !!
वाले कि किस्मत में ही होता है !!

किस्मत कि लकीरों में तुम लिखे हो !!
या नही पता नहीं,पर हाथों की लकीरों !!
पे तुम्हें हर रोज लिखता हूँ !!

खुद में ही उलझी हुई है जो मुझे क्या !!
सुलझायेगी,भला हाथों की चंद लकीरें !!
भी क्या किस्मत बताएगी !!

बिकने वाले और भी है जाओ जाकर !!
खरीद लो,हम कीमत से नहीं किस्मत !!
से मिला करते है !!

Bad kismat quotes in english

किस्मत भी उनका साथ देती है !!
जिनमें कुछ कर गुजरने की !!
हिम्मत होती है !!

मुझ में और किस्मत में हर बार बस !!
यही जंग रही,मैं उसके फैसलें से तंग !!
और वो मेरे हौसले से दंग रही !!

बड़ा मुश्किल काम दे दिया किस्मत !!
ने मुझको,कहती है तुम तो सबके हो !!
गए अब ढूंढो उनको जो तुम्हारे है !!

जब भी रब दुनिया की किस्मत में !!
चमत्कार लिखता है मेरे नसीब में !!
थोड़ा और इंतज़ार लिखता है !!

दरिया तो बह रहा है मेरे घर के !!
पास से मगर किस्मत कही दूर !!
बैठी है लेकर आशाए साथ में !!

तेरी चाहत तो किस्मत की बात है मिले !!
या ना मिले, पर दिल को राहत जरूर !!
मिल जाती है तुझै अपना सोचकर !!

मुक़द्दर की लिखावट का एक ऐसा !!
भी काएदा हो,देर से किस्मत खुलने !!
वालो का दुगुना फायेदा हो !!

वक्त और किस्मत पर कभी घमंड मत !!
करों,क्योंकि सुबह उनकी भी होती है !!
जिन्हें कोई याद नहीं करता है !!

जिनकी किस्मत में लिखा हो रोना !!
वह मुस्कुरा भी दे तो आंसू निकल आते हैं !!

ख़राब हम नहीं हमारी किस्मत है !!
जहां भी जाते है अकेले ही रह जाते है !!

रिश्ते नाते झूठे हैं सब स्वार्थ का झमेला है !!
जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है !!

मेरे लिखने से अगर बदल जाती किस्मत तो !!
हिस्से में तेरे सारा जहाँ लिख देती !!

कल भी मन अकेला थाएआज भी अकेला है !!
जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है !!

सारा इल्जाम अपने सर ले कर !!
हमने किस्मत को माफ कर दिया !!

मेरी किस्मत से खेलने वाले !!
मुझ को दुनिया से बेखबर कर दे !!

कुछ तो लिखा होगा किस्मत में !!
वरना आप हम से यूं ना मिले होते !!

किस्मत की लकीरों से चुराया था जिसे !!
चंद लम्हों के लिए भी वो मेरा ना हुआ !!

तुझको मस्ज़िद है मुझको मयखाना !!
वाइज़ अपनी अपनी किस्मत है !!

ये दिन भी देखना लिखा था मेरी क़िस्मत में !!
जो थे हबीबए हुए हैं रक़ीब ए जां लोगों !!

एक ही ख्वाब देखा है कई बार मैंने !!
तेरे की हाथों में उल्झी चाबियां मेरी किस्मत !!

किस्मत कि लकीरों में तुम लिखे हो या नही पता नहीं !!
पर हाथों की लकीरों पे तुम्हें हर रोज लिखता हूँ !!

किस्मत जाग गयी मैं सोता रहा !!
किस्मत भाग गयी मैं रोता रहा !!

सच देखना भी हर किसी के वश में नहीं होता !!
इंसान भी बेबस है अपनी किस्मत के आगे !

किस्मत भी उनका साथ देती है !!
जिनमें कुछ कर गुजरने की हिम्मत होती है !!

मेरे नसीब में फूल नही तो क्या करूं माली !!
आया हूं बाग में तो कांटे ही ले चलूं !!

जिस दिन अपनी किस्मत का सिक्का उछलेगा !!
उस दिन हेड भी अपना और टेल भी अपना !!

ज़िन्दगी है कट जाएगी !!
किस्मत है, किसी दिन पलट जाएगी !!

दिल के रिश्ते किस्मत से मिलते है !!
वरना मुलाक़ात तो हजारों से होती हैं !!

किस्मत का रोना वहीं रोते है !!
जो कयार होते है !!

उसे किस्मत समझ कर सीने से लगाया था !!
भूल गए थे के किस्मत बदलते देर नहीं लगती !!

जिनके दिल अच्छे होते है !!
अक्सर उनकी किस्मत खराब होती है !!

“हुनर” सड़कों पर तमाशा करता है !!
और “किस्मत” महलों में राज करती है !!

wah kya baat hai meme

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को !!
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी !!

अपने हाथों अपनी किस्मत बिगाड़ा हूँ !!
जिंदगी एक खेल है और मैं अनाड़ी हूँ !!

किस्मत जाग गयी मैं सोता रहा !!
किस्मत भाग गयी मैं रोता रहा !!

किस्मत की लकीरें भी आज इठलाई है !!
तेरे नाम की मेहँदी जो हाथों अपर रचाई है !!

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल ए यार होता !!
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता !!

अहंकार में ही इंसान सब कुछ खोता है !!
बेवजह किस्मत को दोष देकर रोता है !!

अगर इश्क़ है तो फिक्र भी बेहद होगी !!
उभर गए तो किस्मत,डूब गए तो चाहत होगी !!

कल भी मन अकेला था आज भी अकेला है !!
जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है !!

ख़राब हम नहीं हमारी किस्मत है !!
जहां भी जाते है अकेले ही रह जाते है !!

बादशाहों को सिखाया है क़लंदर होना !!
आप आसान समझते हैं मुनव्वर होना !!

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है !!
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना !!

सिर्फ़ बच्चों की मोहब्बत ने क़दम रोक लिए !!
वर्ना आसान था मेरे लिए बे-घर होना !!

हम को मा’लूम है शोहरत की बुलंदी हम ने !!
क़ब्र की मिट्टी का देखा है बराबर होना !!

इस को क़िस्मत की ख़राबी ही कहा जाएगा !!
आप का शहर में आना मिरा बाहर होना !!

सोचता हूँ तो कहानी की तरह लगता है !!
रास्ते से मिरा तकना तिरा छत पर होना !!

मुझ को क़िस्मत ही पहुँचने नहीं देती वर्ना !!
एक ए’ज़ाज़ है उस दर का गदागर होना !!

सिर्फ़ तारीख़ बताने के लिए ज़िंदा हूँ !!
अब मिरा घर में भी होना है कैलेंडर होना !!

जो मिल गया उसे तक़दीर का लिखा कहिये !!
जो खो गया उसे क़िस्मत का फ़ैसला कहिये !!

दूर होना किस्मत में था !!
अलग होना चाहत थी तुम्हारी !!

हर तरफ़ छा गए पैग़ाम ,ए,मोहब्बत बन कर !!
मुझ से अच्छी रही क़िस्मत मेरे अफ़्सानों की !!

बाज़ी ,ए ,इश्क़ में हमारी किस्मत तो देखिये !!
चार इक्के थे हाथ में और बेग़म से हार गये !!

Rate this post

Leave a Comment

Chat now
1
Hello 👋
Can we help you?