251+👉 Best Gulzar Shayari in Hindi Love | गुलज़ार शायरी इन हिंदी

Gulzar shayari in hindi 2 lines

मुस्कुराना, सहते जाना, चाहने की रस्म है !!
ना लहू ना कोई आँसू इश्क़ ऐसा ज़ख्म है !!

कोई तो करता होगा हमसे भी खामोश मोहब्बत !!
किसी का हम भी अधूरा इश्क रहे होंगे !!

आखिरी नुकसान था तू जिंदगी में !!
तेरे बाद मैंने कुछ खोया ही नहीं !!

सब खफा हैं मेरे लहजे से पर मेरे !!
हालात से वाकिफ कोई नहीं !!

तन्हाइयां कहती हैं कोई महबूब बनाया जाए !!
जिम्मेदारियां कहती हैं वक़्त बर्बाद बहुत होगा !!

जर्रा जर्रा समेट कर खुद को बनाया है मैंने !!
मुझसे ये ना कहना बहुत मिलेंगे तुम जैसे !!

उतार कर फेंक दी उसने तोहफे में मिली पायल !!
उसे डर था छनकेगी तो याद जरूर आऊंगा मै !!

सब तारीफ कर रहे थे अपने अपने महबूब का !!
हम नीद का बहाना बना कर महफ़िल छोड़ आए !!

वो हमे भूल ही गए होंगे भला !!
इतने दिनों तक कौन खफा रहता है !!

आज थोड़ी बिगड़ी है कल फिर सवांर लेंगे !!
जिंदगी है जो भी होगा संभाल लेंगे !!

उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर !!
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले !!

हाथ छुटे तो भी रिश्ते नहीं छोड़ा करते !!
वक़्त की शाख से रिश्ते नहीं तोड़ा करते !!

तमाशा करती है मेरी जिंदगी !!
गजब ये है कि तालियां अपने बजाते हैं !!

तुम लौट कर आने की तकलीफ़ मत करना !!
हम एक ही मोहब्बत दो बार नहीं किया करते !!

हम अपनों से परखे गए हैं कुछ गैरों की तरह !!
हर कोई बदलता ही गया हमें शहरों की तरह !!

इसे भी पढ़े:- Sardi Shayari in Hindi with Images | सर्दी शायरी इन हिंदी

Rate this post

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*