251+👉 Best Gulzar Shayari in Hindi Love | गुलज़ार शायरी इन हिंदी

Gulzar sahab ki shayari

तू समझता क्यूं नही है दिल बड़ा गहरा कुआँ है !!
आग जलती है हमेशा हर तरफ धुआँ धुआँ है !!

एक बीते हुए रिश्ते की एक बीती घड़ी से !!
लगते हो तुम भी अब अजनबी से लगते हो !!

प्यार में अज़ीब ये रिवाज़ है !!
रोग भी वही है जो इलाज है !!

जाने कैसे बीतेंगी ये बरसातें !!
माँगें हुए दिन हैं माँगी हुई रातें !!

ऐसा कोई ज़िंदगी से वादा तो नही था !!
तेरे बिना जीने का इरादा तो नही था !!

वो बेपनाह प्यार करता था मुझे !!
गया तो मेरी जान साथ ले गया !!

इस दिल में बस कर देखो तो ये शहर बड़ा पुराना है !!
हर साँस में कहानी है हर साँस में अफ़साना है !!

कोई वादा नही किया लेकिन क्यों तेरा इंतज़ार रहता है !!
बेवजह जब क़रार मिल जाए दिल बड़ा बेकरार रहता है !!

वफा की उम्मीद ना करो उन लोगों से !!
जो मिलते हैं किसी और से होते है किसी और के !!

खून निकले तो ज़ख्म लगती है !!
वरना हर चोट नज़्म लगती है !!

इतना लंबा कश लो यारो दम निकल जाए !!
जिंदगी सुलगाओ यारों गम निकल जाए !!

वक्त सालों की धुंध से निकल जायेगा !!
तेरा चेहरा नज़र से पिघल जायेगा !!

जीना भूले थे कहां याद नहीं तुमको !!
पाया है जहाँ सांस फिर आई वहीं !!

शाम से आँख में नमी सी है !!
आज फिर आपकी कमी सी है !!

टूटी फूटी शायरी में लिख दिया है डायरी में !!
आख़िरी ख्वाहिश हो तुम लास्ट फरमाइश हो तुम !!

इसे भी पढ़े:- Bewafa Shayari in Hindi for Girlfriend and Boyfriend | बेवफा शायरी इन हिंदी

Rate this post

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*