251+👉 Best Gulzar Shayari in Hindi Love | गुलज़ार शायरी इन हिंदी

Gulzar shayari on love

वो सफर बचपन के अब तक याद आते है मुझे !!
सुबह जाना हो कहीं तो रात भर सोते न थे !!

ज़माने की तो फ़ितरत ही है बातों से मुकर जाना !!
हम ही पागल थे जो वादों पर ऐतबार किया करते थे !!

कभी घमंड ना करना अपनी मोहब्बत पे तुम से !!
बेहतर मिलने पर तुम ठकरा दिए जाओगे !!

मुझे लगता था उसे मुझसे !!
मोहब्बत है कहा न लगता था !!

जिस दिन उस पर दिल आया था !!
उस दिन मौत आ जाती तो ज़्यादा अच्छा था !!

चाहते है वो हर रोज़ एक नया चाहने वाला !!
ए खुदा मुझे हर रोज़ एक नई सूरत दे दे !!

छू न पाया मेरे अंदर की उदासी को कोई !!
मेरे चेहरे ने इतनी अच्छी अदाकारी की है !!

हर तरीका आज़मा चुका हूँ तुम्हें मनाने का !!
कहाँ से सीख के आये हो ये अंदाज रूठ जाने का !!

कौन देता है उम्र भर का साथ !!
लोग जनाज़े में भी कंधा बदलते है !!

हमें भी सीखा दो यूँ भूल जाने का हुनर अब !!
हमसे रातों को उठ उठ कर रोया नहीं जाता !!

तुम बदले तो हम भी कहाँ पुराने से रहे !!
तुम आने से रहे तो हम भी बुलाने से रहे !!

यही तो ज़माने का उसूल है जरुरत हो !!
तो खुदा वरना बंदा फ़िज़ूल है !!

तिनका सा मै और समुंदर सा इश्क !!
डूबने का डर और डुबाना ही इश्क !!

वो सफर बचपन के अब तक याद आते हैं मुझे !!
सुबह जाना हो कहीं तो रात भर सोते नही थे !!

कमियां तो पहले भी थीं मुझमें अब !!
जो बहाना ढूंढ़ रहे हो तो बात अलग है !!

इसे भी पढ़े:- 2 Line Shayari in Hindi | 2 लाइन शायरी इन हिंदी

Rate this post

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*