251+👉 Best Gulzar Shayari in Hindi Love | गुलज़ार शायरी इन हिंदी

Gulzar shayari love

अगर किसी से बिछड़ने का डर तुम्हें हर !!
रोज़ रहने लगे तो यकीन मानो कि उस !!
इंसान को तुम एक दिन खो ही दोगे !!

बुरा वक़्त तो गुज़र ही जायेगा !!
बस वही लोग नहीं गुज़रते !!
जिनकी वजह से वो बुरा वक़्त आया है !!

भरोसा नहीं है क्या मुझपे !!
ये लाइन बोलकर पता नहीं !!
कितने लोग धोखा दे देते है !!

हमसे रिश्ता बनाये रखना !!
हम वहाँ काम आते है !!
जहाँ सब साथ छोड़ जाते है !!

लोगो को हद से जयादा इज़्ज़त और !!
भरोसा दोगे वो उठाकर आपके मुँह !!
पर बेइज़्ज़ती और धोखा ही मरेगा !!

सोचकर बाजार गया था अपने कुछ !!
आंसू बेचने हर खरीददार बोला अपनों !!
के दिए तोफे बेचा नहीं करते !!

मेरी तो खुद की किस्मत !!
साथ नहीं देती
तुम तो “खैर” तुम हो !!

इश्क़ की अपनी ही बचकानी ज़िद !!
होती है चुप करवाने के लिए भी !!
वही चाहिए जो रुलाकर गया है !!

बिछड़ते वक़्त मेरे सारे ऐब galti गिनाये उसने !!
सोचता हूँ
जब मिला था तब कोन सा हुनर था मुझमे !!

धागे बड़े कमज़ोर चुन लेते है हम !!
और फिर पूरी उम्र
गांठ बांधने में निकल जाती है !!

गलती बस एक ही हुई मुझसे !!
ज़िंदगी में. जिसने मुड़कर भी !!
ना देखा मैंने उसका इंतज़ार किया !!

हमने कहा उनसे हम बहुत रोते हैं !!
तुम्हारे लिए वो बोले रोते तो सब हैं !!
तो हम क्‍या सबके हो जाए !!

कुछ तो बात है मोहब्बत में !!
वरना एक लाश के लिए !!
कोई ताज महल नहीं बनता !!

जिंदगी मे सबको सबकुछ मिले बेशक़ !!
ये ज़रूरी नहीं हैं लेकिनजो मिला है उसकी !!
भी कहीं कोई चाहत बाक़ी ना रह जाए !!

मुसलसल बदलते दौरा से भी मै बख़ूबी !!
वाकिफ़ हूँ “निश़ात”सँभलना कहीं कोई !!
फिर भी नया तजुर्बा बाक़ी ना रह जाए !!

इसे भी पढ़े:- Pyar Bhari Shayari | प्यार भरी शायरी

Rate this post

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*